The best time to get started with investments is now! Open your demat and trading डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं account on YONO now with no account opening charges & DP AMC completely waived off for first year. Download YONO now!#SBISecurities #Investments #IPO #AmritMahotsav #AzadiKaAmritMahotsavWithSBI pic.twitter.com/u9HAluu3ZZ — State Bank of India (डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं @TheOfficialSBI) April 15, 2022

डीमेट अकाउंट क्या है और Demat Account कैसे खुलवाएं हिंदी में

Demat Account In Hindi: अगर आप भी निवेशक बनना चाहते हैं और शेयर बाजार में निवेश और ट्रेडिंग करके पैसे कमाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको जरुरत पड़ती है Demat Account की. क्योंकि बिना Demat Account के आप शेयर की लेन – देन और शेयर को Hold नहीं कर सकते हैं.

क्या आप जानते हैं Demat Account क्या है, डीमैट अकाउंट कैसे खुलवाएं, डीमैट अकाउंट कौन खुलवाता है, डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट में क्या अंतर है, डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान क्या हैं तो आप एक दम सही लेख पर आये हैं.

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको डीमैट अकाउंट के बारे में पूरी जानकरी देने वाले हैं जो कि डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं आपको डीमैट अकाउंट खुलवाने से पहले पता होनी चाहिए. अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करने के बारे में विचार कर रहें हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं Demat Account क्या होता है विस्तार से –

SBI YONO ऐप पर खोलिए डीमैट अकाउंट, नहीं देनी होगी कोई फीस

वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण ने पिछले दिनों शेयर मार्केट में छोटे निवेशकों की बढ़ती भागीदारी पर खुशी जताई थी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं ने पिछले दिनों शेयर मार्केट में छोटे निवेशकों की बढ़ती भागीदारी पर खुशी जताई थी.

अगर आप शेयर मार्केट में निवेश की योजना बना रहे हैं तो इसमें निवेश करने के लिए एक डीमैट और ट्रेडिंग खाते की जरूरत पड़ेगी . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : April 15, 2022, 18:02 IST

नई दिल्ली. शेयर बाजार में निवेश करने के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट (Demat Account) जरूर होना चाहिए. इसके साथ ही ट्रेडिंग अकाउंट (Trading Account) भी जरूरी है. आमतौर पर डीमैट अकाउंट खोलने पर आपको फीस देनी होती है. वहीं, सार्वजनिक क्षेत्र का सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) अपने मोबाइल ऐप योनो (SBI YONO) के जरिए ग्राहकों को फ्री में डीमैट अकाउंट खोलने का ऑफर दे रहा है. इसके अलावा पहले साल में अकाउंट होल्डर को किसी तरह का एएमसी (AMC) चार्ज नहीं देना होगा.

बैंक ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल @TheOfficialSBI के जरिए कहा, ”अपना पहला डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट खोले एसबीआई के योनो ऐप के जरिए. आपको डीमैट अकाउंट और पहले साल के डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) एएमसी पर किसी तरह का शुल्क नहीं देना होगा. अब योनो डाउनलोड करें!”

The best time to get started with investments is now!

Open your demat and trading account on डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं YONO now with no account opening charges & DP AMC completely waived off for first year. Download YONO now!#SBISecurities #Investments #IPO #AmritMahotsav #AzadiKaAmritMahotsavWithSBI pic.twitter.com/u9HAluu3ZZ

— State Bank of India (@TheOfficialSBI) April 15, 2022

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Demat Account Meaning in Hindi

What is Demat Account Meaning in Hindi डीमैट खाता क्या है, कैसे काम करता है, डीमैट अकाउंट की आवश्यकता क्यों पड़ती है और इसके क्या क्या फायदे हैं विस्तार से हिंदी में जानिये. डीमैट खाते की जानकारी और इसे कैसे खुलवा सकते हैं। इसके क्या फायदे हैं और इसे कैसे मेंटेन करते हैं। शेयर बाजार के बारे में अधिक जानकारी और अन्य पहलुओं को जानने के लिये हिंदी में शेयर मार्केट विस्तार डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं से पढ़ें। What is Demat Account and what are benefits of it in Hindi.

Demat Account Meaning in Hindi

Demat Account Meaning in Hindi

Demat Account Meaning in Hindi – No Physical Shares in Demat

ऐसा डिजिटल खाता जिसमें कंपनियों के शेयर कोई शेयरधारक डिजिटल अवस्था में रखता है उसे Demat Account कहते हैं। इसको आसानी से ऐसे समझिये. जैसे हम आपने पैसे अपने बैंक के खाते में रखते हैं वैसे ही हम अपने शेयर डीमैट खाते में रखते हैं। जैसे हम यदि बैंक के खाते से नकदी निकलवा लें तो वह नकदी या करंसी पैसे का भौतिक रूप है। मगर जब हम अपने डेबिट कार्ड से किसी दूकानदार को पेमेंट करते हैं तो यह पैसों का इलेक्ट्रॉनिक ट्रान्सफर हुआ. इसी प्रकार यदि हमारे पास शेयर हैं तो हम या तो उन्हें किसी को गिफ्ट देंगे या बाजार में बेच देंगे, दोनों ही परिस्थितियों में शेयरों का एक डीमैट खाते से दूसरे डीमैट खाते में इलेक्ट्रॉनिक ट्रान्सफर किया जाएगा. शेयरों को भौतिक रूप में रखने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती.

Demat Account Meaning In Hindi

शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक्स रूप से खाते में रखने की सुविधा को डीमैट कहते हैं. भारत में शेयर और प्रतिभूतियां को इलेक्ट्रॉनिक रूप से Dematerialized डिमैटीरिलाईज्ड यानी Demat Account में रखा जाता है. शेयर धारक शेयरों को भौतिक रूप में यानी कागज़ पर छपे हुए शेयर सर्टिफिकेट नहीं रखते. इसके लिए ब्रोकर के पास जा कर Demat Account खुलवाया जाता है. सभी शेयरों के लेनदेन में डीमैट खाते का नंबर लिखा जाता है जिससे कि शेयरों की खरीद बिक्री का इलेक्ट्रॉनिक सेटलमेंट हो सके. किसी भी तरह के शेयरों के लेनदेन के लिए शेयर होल्डर के पास डीमैट खाता होना आवश्यक है.

शेयर सीधे खाते में आते हैं Keep your Shares in Demat Account

Demat Account तक पहुँचने के लिए इन्टरनेट पर पासवर्ड की जरूरत होती है. शेयरों की खरीद और बिक्री सौदा कन्फर्म होने पर स्वत ही हो जाती है.

जब भी कोई कंपनी बोनस अथवा राईट शेयर जारी करती है तो ये शेयर भी सीधे शेयर होल्डर के Demat Account में आ जाते हैं. आईपीओ IPO में शेयरों के आवेदन करने के लिए भी डीमैट खाते की आवश्यकता है. यदि आईपीओ में आपको शेयर मिले हैं तो वे सीधे आपके डीमैट खाते में ही आ जाते हैं.

Demat खाते के फायदे

डीमैट शेयर गुम नहीं होते, खराब नहीं हो सकते, चोरी नहीं हो सकते. इनसे सिग्नेचर ना मिलने जैसी समस्या भी नहीं होती. Demat Account की वजह से शेयरों की खरीद बिक्री में धोखा होने की संभावना भी समाप्त हो जाती है. यह बहुत ही सुविधाजनक भी है.

कैसे खुलवाएँ Demat खाता

आप अपना Demat Account किसी दूसरे को ट्रान्सफर नहीं कर सकते मगर इसमें पड़े शेयर दूसरे को ट्रान्सफर कर सकते हैं. डीमैट खाता किसी दूसरे के साथ जॉइंट तरीके से खुलवाया जा सकता है. आप एक से अधिक डीमैट खाते भी खोल सकते हैं. अधिकतर निजी बैंक आपको डीमैट खाता खुलवाने की सुविधा देते हैं. इसके अलावा कई निजी ब्रोकर कंपनियों के पास डीमैट खाता खुलवाया जा सकता है. इसके लिए आपको अपना पैन कार्ड की कॉपी, पते का प्रूफ देना होता है और KYC भरना पड़ता है.

क्या आप जॉइंट डीमैट खाता खुलवा सकते हैं? जानें कैसे

Joint Demat Account: जॉइंट डीमैट खाते की अनुमति है वहीं, जॉइंट ट्रेडिंग खाता नहीं खुलवाया जा सकता. दोनों में क्या है फर्क और क्या है प्रक्रिया?

  • Khushboo Tiwari
  • Publish Date - June 17, 2021 / 01:19 PM IST

क्या आप जॉइंट डीमैट खाता खुलवा सकते हैं? जानें कैसे

Joint Demat Account: बैंक खाते से लेकर पोस्ट ऑफिस सेविंग्स स्कीम तक जॉइंट खाते की सुविधा है. तो क्या शेयर बाजार में निवेश के लिए जरूरी डीमैट खाते में भी जॉइंट अकाउंट खुलवा सकते हैं? इसे समझने के लिए आपको सबसे पहले जानना होगा कि ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट अकाउंट में क्या फर्क है क्योंकि एक ओर जहां जॉइंट डीमैट खाते की अनुमति है वहीं, जॉइंट ट्रेडिंग खाता नहीं खुलवाया जा सकता. शेयर बाजार में खरीदारी के लिए ट्रेडिंग अकाउंट अनिवार्य है जबकि इन शेयरों को डिमैटीरयलाइज्ड फॉर्म में रखने के लिए डीमैट खाता चाहिए.

जॉइंट डीमैट खाता खुलवाया जा सकता है लेकिन इसके लिए प्रक्रिया थोड़ी अलग है. साथ ही, अलग-अलग डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट इसके लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन सुविधा देते हैं. डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट वो कंपनियां हैं जो NSDL या CDSL जैसे डिपॉजिटरी में खाता रखती हैं और निवेशक और डिपॉजटरी के बीच ब्रिज का काम करते हैं. ये ब्रोकर, बैंक आदि हो सकते हैं.

डीमैट अकाउंट क्यों है जरूरी?

जिस तरह आपका बैंक खाता आपके लिए पैसे होल्ड करने, ट्रांसफर करने के काम आता है, वैसे ही डीमैट खाता आपकी सिक्योरिटीज जैसे शेयर और बॉन्ड को होल्ड करने और ट्रांसफर की सुविधा में मदद करता है. यहां आपके शेयर सुरक्षित रखे जाते हैं और बिना किसी पेपरवर्क और स्टैंप वगैराह के आसानी से ट्रांसफर हो सकते हैं.

ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं में फर्क

स्टॉक एक्सचेंज से शेयर खरीदने या बेचने के लिए ट्रेडिंग अकाउंट जरूरी है. जॉइंट ट्रेडिंग अकाउंट नहीं खुलवाया जा सकता है क्योंकि हर ट्रेडिंग अकाउंट एक पैन कार्ड से लिंक होता है. शेयरों में निवेश के लिए आपको ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट दोनों खुलवाने होते हैं. एक ही ब्रोकर के पास आपके दो ट्रेडिंग अकाउंट नहीं हो सकते. ना ही आप किसी और को इस ट्रेडिंग डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं अकाउंट में जोड़ सकते हैं. डीमैट में यही शेयर इलेक्ट्रिक फॉर्म में रखे जाएंगे.

कैसे खुलवाएं जॉइंट डीमैट खाता

एक जॉइंट डीमैंट अकाउंट में कुल 3 अकाउंट होल्डर हो सकते हैं जिसमें से एक व्यक्ति मुख्य अकाउंट होल्डर होगा और बाकी दोनों जॉइंट होल्डर्स होंगे. ध्यान दें कि जॉइंट डीमैट अकाउंट में टैक्स की देनदारी प्रमुख अकाउंट होल्डर पर बनती है. साथ ही फर्स्ट होल्डर को ही सारा कम्यूनिकेशन मिलेगा.

डिस्काउंट ब्रोकर जेरोधा के मुताबिक यहां आप ऑलाइन डीमैट खाता नहीं खलुवा सकेंगे. इसके लिए आपको उनके ऑफिस जाकर फॉर्म भरने होंगे और KYC की प्रक्रिया पूरी करनी होगी. इसपर ऑफलाइन वाले ही चार्ज लगेंगे.

लेकिन वहीं, मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक आप इसे ऑनलाइन भी खुलवा सकते हैं. उसके लिए वेबसाइट से ECS मैन्डेट, KYC डॉक्यूमेंट आदि फॉर्म डाउनलोड करने होंगे. ये डाउनलोड करने के बाद इसके साथ PAN कार्ड, एड्रेस प्रूफ, पहचान पत्र आदि की सॉफ्ट कॉपी भी तैयार रखें.

फॉर्म भरने के बाद हस्ताक्षर कर उसे अपलोड करना होगा और बाकी प्रक्रिया का पालन करना होगा. फॉर्म के साथ बाकी डॉक्यूमेंट भी अपलोड करने होंगे. यहीं आपको जॉइंट अकाउंट का विकल्प चुनना होगा और डीमैट अकाउंट कहां खुलवाएं नॉमिनी की जानकारी भरनी होगी.

वेरिफिकेशन के बाद डीमेट अकाउंट नंबर और ऑलाइन लॉग-इन की जानकारी मिलेगी.

KYC के लिए जरूरी कागजात

जॉइंट होल्डर की वजह से दोनों का KYC कराना होगा. इसके लिए पासपोर्ट साइज फोटो (अटेस्ट किए हुए), एड्रेस प्रूफ, PAN कार्ड की कॉपी चाहिए होगी. इसके साथ ही आधार कार्ड आदि किसी पहचान पत्र और बैंक खाते के स्टेटमेंट या कैंसल्ड चेक की भी जरूरत होगी.

रेटिंग: 4.14
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 430