फॉरेक्स ट्रेड रोबोट, संकेत और सलाहकार: सॉफ्टवेयर

इस अनुभाग में आप सबसे लोकप्रिय विदेशी मुद्रा संकेत प्रदाताओं के साथ ही परियोजनाओं और कंपनियों और अन्य वित्तीय बाजारों पर विदेशी मुद्रा व्यापार के संचालन के बारे में परामर्श पर ध्यान केंद्रित की एक सूची प्राप्त कर सकते हैं। इस अनुभाग का उपयोग करने से पहले, कृपया अस्वीकरण पढ़ने.

Global Fx Trading Group, Inc.

Traders can now try our award winning Trade Detector (Algo or EA), for 30 days, for $25. Then, when you decide to keep it, the monthly fee is only $49.99. Both versions come with free training, free 24/7 support, all updates, and free membership in our Users Group, where strategies are discussed 24/7.
For the EA, go to: Trade Detector EA For the Algo,go to: Trade Detector ALGO

advisors.instaforex.com

advisors.विदेशी मुद्रा व्यापार सॉफ्टवेयर अबी instaforex.com आप विशेषज्ञ सलाहकार (ईएएस), चाहे आप एक शुरुआत है या पेशेवर हैं की परवाह किए बिना के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए संसाधन है। क्या अधिक है, वहाँ एक एक निश्चित ट्रेडिंग रणनीति या शैली के लिए अपने दम पर ईएएस के एमक्यूएल4 प्रोग्रामिंग पर मार्गदर्शन की धारा है।

माइडीजीट्रेड - स्वचालित व्यापार

माइडीजीट्रेड नवीनतम, नवीन और सबसे शक्तिशाली प्लेटफॉर्म है कि इंस्टाफॉरेक्ष् के साथ अपनी दलाली खाते ऑनलाइन पेशेवर व्यापारियों की नकल सौदों की अनुमति देता है में से एक है। वहाँ विदेशी मुद्रा विशेषज्ञों, व्यापारियों और हमारे उपयोगकर्ताओं के बीच निवेशक हैं।

एमेट व्यापार समाधान

एमेट व्यापार समाधान की एक पेशेवर टीम है उच्च प्रशिक्षित और अनुभवी प्रोग्रामर स्वचालित ट्रेडिंग रणनीति कोडिंग पर ध्यान केंद्रित किया।
सेवाओं व्यापारियों के लिए और अपने स्वयं के विश्लेषकों का व्यापार रणनीतियों को बेचने के लिए ज्यादातर रहे हैं।
एमेट-ट्रेडिंग-समाधान स्वत: विकसित एमटी4 सहित विभिन्न प्लेटफार्मों, के लिए व्यापार प्रणाली। व्यावहारिक पूरी तरह से स्वचालित रणनीतियों (रोबोट, विशेषज्ञ सलाहकार, ईएएस) और कस्टम संकेतक प्रत्येक और हर ग्राहक के लिए एक व्यक्तिगत समर्पण के साथ में
एमेट-ट्रेडिंग-समाधान ग्राहकों बारी 'व्यापार अवधारणाओं।

J&K Investment Group / J&K Forex Trading

We provide clients free telegram channel for Forex signals and analysis and VIP channel with aprox. 15-20 monthly Forex signals with high accuracy.

ELOMGROUP

ELOMGROUP (Efficient Literacy Of Modified Trading) are managing traders of InstaForex Company with various background in different specialization (engineering, accounting, developer, programmer, etc) that simply contribute to the transformation of society in foreign exchange industry to achieve a more profitable, sustainable, and simpler future. Elomgroup started their journey with human capabilities, designing an Artificial Intelligence (AI) to take over the parts of a task that people are bad at and let people decide upon high-level goals and constraints.
The unique invention of EURO system (Electronic Unified Resilience Outlet -AI) really help to make trading efficient for human. The AI are wired to stick to system commands and take valid trade signals, without feeling pain from losses or joy from wins.

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है

हिंदी

विदेशी मुद्रा व्यापार क्या है, और यह कैसे काम करता है?

सबसे पहले, यह समझना जरूरी है कि विदेशी मुद्रा बाजार क्या है। विदेशी मुद्रा या विदेशी मुद्रा बाजार वह जगह है जहां एक मुद्रा का दूसरे के लिए कारोबार किया जाता है। यह दुनिया के सबसे सक्रिय रूप से कारोबार किए गए वित्तीय बाजारों में से एक है। वॉल्यूम इतने विशाल हैं कि वे दुनिया भर के शेयर बाजारों में सभी संयुक्त लेनदेन से अधिक हैं।

विदेशी मुद्रा बाजार की एक वैश्विक पहुंच है जहां दुनिया भर से खरीदार और विक्रेता व्यापार के लिए एक साथ आते हैं। ये व्यापारी एक दूसरे के बीच सहमत मूल्य पर धन का आदान प्रदान करते हैं। इस प्रक्रिया के माध्यम से व्यक्ति, कॉर्पोरेट और देशों के केंद्रीय बैंक एक मुद्रा का दूसरे में आदान-प्रदान करते हैं। जब हम विदेश यात्रा करते हैं, तो हम सभी विदेशी देश की कुछ मुद्रा खरीदते हैं। यह अनिवार्य रूप से एक विदेशी मुद्रा लेनदेन है।

इसी तरह, कंपनियों को अन्य देशों में वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने की आवश्यकता होती है और इसके लिए विदेशी मुद्रा की आवश्यकता होगी। मान लें कि भारत में एक कंपनी संयुक्त राज्य अमेरिका से उत्पाद खरीद रही है। भारतीय कंपनी को उत्पादों के आपूर्तिकर्ता का भुगतान अमेरिकी डॉलर में करना पड़ता है। इसका मतलब यह है कि कंपनी को खरीद करने के लिए जिस डॉलर की जरूरत है उसके बराबर रुपये का आदान-प्रदान करना होगा। विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है?

अब जब हमने विदेशी मुद्रा व्यापार की मूल बातें समझ ली हैं, तो हम देखेंगे कि यह इतने बड़े पैमाने पर क्यों किया जाता है। मुख्य कारण अटकलें हैं: मुद्रा के मूल्य में परिवर्तन से लाभ कमाने के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार किया जाता है। विभिन्न आर्थिक और राजनीतिक कारकों के कारण मुद्रा मूल्य बदलते रहते हैं, जिनमें भुगतान संतुलन, मुद्रास्फीति और ब्याज दर में परिवर्तन शामिल हैं। ये मूल्य परिवर्तन उन व्यापारियों के लिए आकर्षक बनाते हैं, जो अपने हंच सही होने से लाभ की उम्मीद करते हैं। हालांकि, अधिक लाभ की संभावना के साथ, उच्च जोखिम आता है।

शेयरों की तरह, विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए कोई केंद्रीय बाजार नहीं है। दुनिया भर के व्यापारियों के बीच कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करके लेन-देन होता है। मुद्राओं का कारोबार न्यू यॉर्क, टोक्यो, लंदन, हांगकांग, सिंगापुर, पेरिस, आदि जैसे प्रमुख वित्तीय केंद्रों में किया जाता है। इसलिए जब एक बाजार बंद हो जाता है, तो दूसरा खुलता है। यही कारण है कि विदेशी मुद्रा बाजार दिन या रात के लगभग किसी भी समय सक्रिय रहते हैं।

मुद्रा व्यापार की मूल बातों के पहलुओं में से एक यह है कि यह जोड़े में होता है – एक मुद्रा की कीमत की तुलना दूसरे के साथ की जाती है। मूल्य उद्धरण में प्रकट होने वाले पहले को आधार मुद्रा के रूप में जाना जाता है, और दूसरे को उद्धरण मुद्रा कहा जाता है। उदाहरण के लिए, यू एस डॉलर / भारतीय रुपया जोड़ी व्यापारी को यह जानकारी देती है कि एक अमेरिकी डॉलर (मूल मुद्रा) खरीदने के लिए कितने भारतीय रुपए की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, एक विशिष्ट तिथि पर जोड़ी यू एस डॉलर 1/ भारतीय रुपया 67.5 रुपये हो सकती है। आधार मुद्रा को हमेशा एक इकाई के रूप में व्यक्त किया जाता है।विदेशी मुद्रा व्यापार में कोई भी मुद्रा आधार मुद्रा हो सकती है।

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे करें?

अब जब आप जानते हैं कि विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है, तो मुद्रा व्यापार करने के लिए तीन अलग-अलग प्रकार के विदेशी मुद्रा बाजारों को समझना आवश्यक है।

स्पॉट मार्केट:

यह एक मुद्रा जोड़ी के भौतिक आदान-प्रदान को संदर्भित करता है। एक स्पॉट लेनदेन एक ही बिंदु पर होता है – व्यापार को ‘स्पॉट’ पर बसाया जाता है। ट्रेडिंग एक संक्षिप्त अवधि के दौरान होता है। मौजूदा बाजार में, मुद्राएं मौजूदा कीमत पर खरीदी और बेची जाती है। किसी भी अन्य वस्तु की तरह, मुद्रा की कीमत आपूर्ति और मांग पर आधारित होती है। मुद्रा दरें अन्य कारकों से भी प्रभावित होती हैं जैसे ब्याज दरों, अर्थव्यवस्था की स्थिति, राजनीतिक स्थिति, दूसरों के बीच अन्य। एक स्पॉट सौदे में, एक पार्टी किसी अन्य पार्टी को एक विशेष मुद्रा की एक निश्चित राशि प्रदान करती है। बदले में, यह एक सहमत मुद्रा विनिमय दर पर दूसरी पार्टी से एक और मुद्रा की एक सहमत राशि प्राप्त करता है।

फिर फॉरवर्ड विदेशी मुद्रा बाजार और वायदा विदेशी मुद्रा बाजार हैं। इन दोनों बाजारों में, मुद्राएं तुरंत हाथ नहीं बदलती हैं। इसके बजाय, एक निश्चित अंतिम तिथि पर एक विशिष्ट मूल्य पर, मुद्रा की एक निश्चित मात्रा के लिए अनुबंध हैं।

फॉरवर्ड्स मार्केट:

फॉरवर्ड फॉरेक्स मार्केट में, दो पार्टियां किसी निश्चित तिथि पर किसी निश्चित मूल्य पर किसी मुद्रा की एक निश्चित मात्रा में खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध में प्रवेश करती हैं।

मुद्रा वायदा भविष्य की तारीख में निश्चित मूल्य पर किसी विशेष मुद्रा को खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध हैं। इस तरह के अनुबंधों का एक मानक आकार और अंतिम अवधि है और सार्वजनिक एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है। भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। एक्सचेंजों द्वारा निकासी और निपटान का ध्यान रखा जाता है।

विदेशी मुद्रा व्यापार भारत में कैसे करें:

अब जब हमने मुद्रा व्यापार की मूल बातें देखी हैं, तो हम भारत में मुद्रा व्यापार करने के तरीके के बारे में और बात करेंगे।

भारत में, बीएसई और एनएसई मुद्रा वायदा और विकल्पों में व्यापार करने की पेशकश करते हैं। यू एस डॉलर /भारतीय रुपया सबसे अधिक कारोबार वाली मुद्रा जोड़ी है। हालांकि, जब मुद्रा व्यापार की बात आती है तो अन्य अनुबंध भी लोकप्रिय हो रहे हैं। यदि आप एक व्यापारी जो मुद्रा बदलावों पर एक स्थान लेना चाहता है, तो आप मुद्रा वायदा में व्यापार कर सकते हैं। मान लीजिए कि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर जल्द ही भारतीय रुपए मुकाबले बढ़ जाएगा । आप तो अमरीकी डालर/ भारतीय रुपया वायदा खरीद सकते हैं। दूसरी ओर, यदि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले INR मजबूत होगा, तो आप यू एस डॉलर /भारतीय रुपया वायदा बेच सकते हैं।

हालांकि, यह समझने की जरूरत है कि विदेशी मुद्रा व्यापार हर किसी के लिए नहीं है। यह उच्च स्तर के जोखिम के साथ आता है। विदेशी मुद्रा में व्यापार करने से पहले, अपने जोखिम की भूख को जानना आवश्यक है और इसमें आवश्यक स्तर का ज्ञान और अनुभव भी होना चाहिए। विदेशी मुद्रा में व्यापार करते समय, आपको पता होना चाहिए कि कम से कम शुरुआत में पैसे खोने का एक अच्छा डर बना रहता है।

अब रुपये का 'बॉस' नहीं रहेगा डॉलर, विदेशी लेनदेन भी भारतीय मुद्रा में होगा, कैसे काम करेगा आरबीआई का नया सिस्‍टम?

डॉलर के मुकाबले रुपया गिरकर 79.45 के रिकॉर्ड निचले स्‍तर तक चला गया है.

डॉलर के मुकाबले रुपया गिरकर 79.45 के रिकॉर्ड निचले स्‍तर तक चला गया है.

डॉलर के मुकाबले रुपये में आती कमजोरी को थामने के साथ व्‍यापार के मोर्चे पर अमेरिकी बादशाहत को चुनौती देने के लिए रिजर्व . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 12, 2022, 11:34 IST

हाइलाइट्स

भारत अपने आयात-निर्यात का सेटलमेंट रुपये में कर सकेगा.
नया सिस्‍टम फॉरेन एक्‍सचेंज मैनेजमेंट एक्‍ट (FEMA) के तहत बनाया जा रहा है.
भारत में अधिकृत बैंकों को वॉस्‍ट्रो विदेशी मुद्रा व्यापार सॉफ्टवेयर अबी खाते खोलने की इजाजत दी गई है.

नई दिल्‍ली. रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने के साथ ही भारतीय मुद्रा पर अमेरिकी डॉलर का दबाव भी बढ़ने लगा. ग्‍लोबल मार्केट में तमाम प्रतिबंधों के बाद हालात ये बन गए कि डॉलर के मुकाबले रुपया रिकॉर्ड निचले स्‍तर पर चला गया. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) इस समस्‍या से निपटने के लिए नया सिस्‍टम विकसित कर रहा है.

आरबीआई ने बताया है कि अंतरराष्‍ट्रीय व्‍यापार भी रुपये में करने के लिए नया सिस्‍टम बनाया जा रहा है. डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा में लगातार आ रही गिरावट और दुनिया की रुपये में बढ़ती दिलचस्‍पी को देखते हुए नया सिस्‍टम विकसित किया जा रहा है. इसके बाद भारत अपने आयात-निर्यात का सेटलमेंट रुपये में कर सकेगा और ग्‍लोबल ट्रेडिंग सिस्‍टम में डॉलर व अमेरिका का दबाव खत्‍म हो जाएगा.

अब नहीं होगा प्रतिबंधों का असर
आरबीआई का नया सिस्‍टम शुरू होने के बाद भारत पर अमेरिका सहित अन्‍य पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों का असर खत्‍म हो जाएगा. ऐसा कई बार हुआ है जब अमेरिका ने किसी देश पर प्रतिबंध लगाया है और भारत को उसका खामियाजा भुगतना पड़ा है. ईरान से तनातनी के बीच जब अमेरिका ने उस पर प्रतिबंध लगाया तो भारत को इरान से कच्‍चा तेल खरीदने में काफी मुश्किल आई. इसी तरह, रूस-यूक्रेन के हालिया युद्ध की वजह से जब अमेरिका, यूरोप ने रूस पर प्रतिबंध लगाए तो भारतीय कंपनियां भी रूस के उत्‍पाद खरीदने में नाकाम रहीं.

इन प्रतिबंधों का भारत पर असर इसलिए ज्‍यादा होता था, क्‍योंकि ग्‍लोबल मार्केट में डॉलर में ही व्‍यापार का लेनदेन किया जाता है और प्रतिबंधों के कारण अमेरिकी डॉलर में लेनदेन भी बंद हो जाता है. इन परेशानियों से निजात पाने के लिए ही आरबीआई ग्‍लोबल मार्केट में सीधे रुपये में ट्रेडिंग का सिस्‍टम तैयार कर रहा है.

फॉरेक्‍स मार्केट से तय होगी दर
आरबीआई ने कहा है कि नया सिस्‍टम फॉरेन एक्‍सचेंज मैनेजमेंट एक्‍ट (FEMA) के तहत बनाया जा रहा है. इससे विदेश में होने वाले आयात और निर्यात के सभी सेटलमेंट रुपये में किए जा सकेंगे. रुपये की कीमत संबंधित देश की मुद्रा के ग्‍लोबल फॉरेक्‍स मार्केट में चल रहे भाव के आधार की तय की जाएगी और सौदे का सेटलमेंट भारतीय मुद्रा में ही किया जाएगा.

खोले जाएंगे विशेष खाते
रिजर्व बैंक के अनुसार, नया सिस्‍टम लागू करने के लिए भारत में अधिकृत बैंकों को वॉस्‍ट्रो खाते खोलने की इजाजत दी गई है. अब भारत का अधिकृत बैंक व्‍यापार से जुड़े देश के बैंक के साथ मिलकर रुपये का वॉस्‍ट्रो खाता खोल सकेगा. इससे भारतीय आयातकों और विदेशी सप्‍लायर्स का सेटलमेंट रुपये में हो सकेगा. इसी तरह, भारतीय निर्यातकों को संबंधित देश के बैंकों की ओर से खोले गए विशेष वॉस्‍ट्रो खाते से भुगतान किया जाएगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

विदेशी मुद्रा व्यापार में करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

सरगना मध्यप्रदेश के देवास से गिरफ्तार, 500 लोगों से कर चुका है धोखाधड़ी

विदेशी मुद्रा व्यापार में करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

नोएडा, वरिष्ठ संवाददाता। साइबर थाना पुलिस ने फॉरेक्स ट्रेडिंग (विदेशी मुद्रा के व्यापार) में निवेश कर मोटी कमाई का झांसा देकर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले गिरोह का मंगलवार को पर्दाफाश किया है। गिरोह के सरगना को मध्यप्रदेश के देवास से गिरफ्तार किया गया। गिरोह देश के कई राज्यों में करीब 500 लोगों के साथ धोखाधड़ी कर चुका है। पुलिस को अबतक 15 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी का रिकॉर्ड मिल चुका है। गाजियाबाद के जीएसटी विभाग से सेवानिवृत्त कमिश्नर से भी इस गिरोह ने 15 लाख रुपये ठगे थे।

सेवानिवृत्त कमिश्नर ने फॉरेक्स ट्रेडिंग में पैसा निवेश करने का झांसा देकर रुपये ठगने का मुकदमा दर्ज कराया था। साइबर क्राइम थाना प्रभारी रीता यादव ने बताया कि इसकी जांच शुरू की गई तो इस गिरोह का पता चला। सरगना शोएब मंसूरी को देवास की शिमला कॉलोनी से गिरफ्तार किया गया। शोएब ने गिरोह के अन्य साथियों के साथ मिलकर पीड़ित से 15 लाख रुपये ठगे थे। आरोपी के बैंक खाते में जमा करीब सात लाख रुपये फ्रीज कर दिया गया है। पुलिस ने उससे दो मोबाइल फोन जब्त किया है।

डीमैट खाता खुलवाकर करते थे फर्जीवाड़ा

गिरोह ने मध्यप्रदेश के इंदौर और देवास में वर्ष 2020 में दफ्तर खोला था। उसने फर्जी कॉल सेंटर बनाया और इसमें काम करने के लिए कुछ युवक-युवतियों को वेतन के आधार पर रखा। गिरोह अलग-अलग ब्रोकिंग कंपनी से ट्रेडिंग करने वाले लोगों का डाटा लेता था। युवक-युवतियां लोगों को कॉल कर फर्जी कंपनी के माध्यम से ट्रेडिंग के लिए राजी करते थे। वह ग्राहकों को फॉरेक्स ट्रेडिंग में मोटा पैसा कमाने का लालच देते थे। इसके विदेशी मुद्रा व्यापार सॉफ्टवेयर अबी लिए 10 से 20 हजार रुपये में उनका डीमैट खाता खुलवाते थे। जालसाज ग्राहक की आईडी और पासवर्ड अपने पास रखते थे, ताकि वह उनके खाते को संचालित कर सकें।

प्ले स्टोर पर डाली थी विदेशी मुद्रा व्यापार सॉफ्टवेयर अबी फर्जी ऐप

गिरोह ने ट्रेडिंग के लिए फर्जी ऐप मेटा ट्रेडर्स-05 नाम से बनाकर प्ले स्टोर पर अपलोड कर दिया था। इसी ऐप के माध्यम से ग्राहकों को उनके खाते में धनराशि की बढ़ती संख्या नजर आती थी।

खातों में सिर्फ संख्या में बढ़ती थी धनराशि

आरोपी अलग-अलग ग्राहकों से डीमैट खातों में पैसा मंगवाते थे। फर्जी ऐप के जरिए डीमैट खातों में दिखाई देने वाली धनराशि डिजिटल रूप में केवल संख्या के रूप में ग्राहक को बढ़ती हुई दिखाई देती थी, जबकि असल में वह धनराशि बढ़ती नहीं थी। इस रकम को देखकर ग्राहक और ज्यादा पैसे का निवेश करता था।

जीएसटी सहित कई चार्ज के नाम पर भी ठगी

ग्राहक को मुनाफा देने की आड़ में गिरोह उनसे जीएसटी सहित विभिन्न चार्ज के रूप में भी लाखों रुपये ठगता था। जब ग्राहक खातों में दिख रही धनराशि का मुनाफा लेना चाहता था तो उससे जीएसटी, कन्वर्जन चार्ज और सेटलमेंट चार्ज के नाम पर विभिन्न बैंकों खातों में और पैसे ट्रांसफर करवा लिए जाते थे। पीड़ितों के खातों का एक्सेस गिरोह के पास होने के चलते वह निवेश की रकम नहीं निकाल पाते थे।

12वीं पास सरगना ने बड़े-बड़ों को ठगा

गिरोह में 16 लोग शामिल हैं। इनमें तीन सरगना है, जो अपनी टीम के सदस्यों के साथ ठगी को अंजाम देता है। इस गिरोह के ठगों की तलाश महाराष्ट्र सहित विभिन्न प्रदेशों की पुलिस को है। पुलिस की गिरफ्त में आया आरोपी शोएब 12 वीं पास है। वह अभी तक सरकारी अधिकारियों से लेकर इंजीनियर और अन्य बड़े पदों पर कार्यरत लोगों को ठगी का शिकार बना चुका है। कुछ दिन बाद ही आरोपी की शादी भी होने वाली है।

क्या है फॉरेक्स ट्रेडिंग

सामान्य शब्दों में फॉरेक्स ट्रेडिंग का अर्थ एक दूसरे के बीच विभिन्न विदेशी मुद्राओं का व्यापार करना है। यानि इस प्रक्रिया के तहत विभिन्न देशों की मुद्राओं में उनके मूल्य के घटते बढ़ते रहने के कारण व्यापार होता है। इसमें एक करेंसी को दूसरी करेंसी से बदला जाता है। ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा जरूरी बात होती है एक्सचेंज रेट। मतलब एक करेंसी को दूसरी करेंसी से एक्सचेंज करने की दर क्या होगी।

विदेशी मुद्रा व्यापार में करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

सरगना मध्यप्रदेश के देवास से गिरफ्तार, 500 लोगों से कर चुका है धोखाधड़ी

विदेशी मुद्रा व्यापार में करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

नोएडा, वरिष्ठ संवाददाता। साइबर थाना पुलिस ने फॉरेक्स ट्रेडिंग (विदेशी मुद्रा के व्यापार) में निवेश कर मोटी कमाई का झांसा देकर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले गिरोह का मंगलवार को पर्दाफाश किया है। गिरोह के सरगना को मध्यप्रदेश के देवास से गिरफ्तार किया गया। गिरोह देश के कई राज्यों में करीब 500 लोगों के साथ धोखाधड़ी कर चुका है। पुलिस को अबतक 15 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी का रिकॉर्ड मिल चुका है। गाजियाबाद के जीएसटी विभाग से सेवानिवृत्त कमिश्नर से भी इस गिरोह ने 15 लाख रुपये ठगे थे।

सेवानिवृत्त कमिश्नर ने फॉरेक्स ट्रेडिंग में पैसा निवेश करने का झांसा देकर रुपये ठगने का मुकदमा दर्ज कराया था। साइबर क्राइम थाना प्रभारी रीता यादव ने बताया कि इसकी जांच शुरू की गई तो इस गिरोह का पता चला। सरगना शोएब मंसूरी को देवास की शिमला कॉलोनी से गिरफ्तार किया गया। शोएब ने गिरोह के अन्य साथियों के साथ मिलकर पीड़ित से 15 लाख रुपये ठगे थे। आरोपी के बैंक खाते में जमा करीब सात लाख रुपये फ्रीज कर दिया गया है। पुलिस ने उससे दो मोबाइल फोन जब्त किया है।

डीमैट खाता खुलवाकर करते थे फर्जीवाड़ा

गिरोह ने मध्यप्रदेश के इंदौर और देवास में वर्ष 2020 में दफ्तर खोला था। उसने फर्जी कॉल सेंटर बनाया और इसमें काम करने के लिए कुछ युवक-युवतियों को वेतन के आधार पर रखा। गिरोह अलग-अलग ब्रोकिंग कंपनी से ट्रेडिंग करने वाले लोगों का डाटा लेता था। युवक-युवतियां लोगों को कॉल कर फर्जी कंपनी के माध्यम से ट्रेडिंग के लिए राजी करते थे। वह ग्राहकों को फॉरेक्स ट्रेडिंग में मोटा पैसा कमाने का लालच देते थे। इसके लिए 10 से 20 हजार रुपये में उनका डीमैट खाता खुलवाते थे। जालसाज ग्राहक की आईडी और पासवर्ड अपने पास रखते थे, ताकि वह उनके खाते को संचालित कर सकें।

प्ले स्टोर पर डाली थी फर्जी ऐप

गिरोह ने ट्रेडिंग के लिए फर्जी ऐप मेटा ट्रेडर्स-05 नाम से बनाकर प्ले स्टोर पर अपलोड कर दिया था। इसी ऐप के माध्यम से ग्राहकों को उनके खाते में धनराशि की बढ़ती संख्या नजर आती थी।

खातों में सिर्फ संख्या में बढ़ती थी धनराशि

आरोपी अलग-अलग ग्राहकों से डीमैट खातों में पैसा मंगवाते थे। फर्जी ऐप के जरिए डीमैट खातों में दिखाई देने वाली धनराशि डिजिटल रूप में केवल संख्या के रूप में ग्राहक को बढ़ती हुई दिखाई देती थी, जबकि असल में वह धनराशि बढ़ती नहीं थी। इस रकम को देखकर ग्राहक और ज्यादा पैसे का निवेश करता था।

जीएसटी सहित कई चार्ज के नाम पर भी ठगी

ग्राहक को मुनाफा देने की आड़ में गिरोह उनसे जीएसटी सहित विभिन्न चार्ज के रूप में भी लाखों रुपये ठगता था। जब ग्राहक खातों में दिख रही धनराशि का मुनाफा लेना चाहता था तो उससे जीएसटी, कन्वर्जन चार्ज और सेटलमेंट चार्ज के नाम पर विभिन्न बैंकों खातों में और पैसे ट्रांसफर करवा लिए जाते थे। पीड़ितों के खातों का एक्सेस गिरोह के पास होने के चलते वह निवेश की रकम नहीं निकाल पाते थे।

12वीं पास सरगना ने बड़े-बड़ों को ठगा

गिरोह में 16 लोग शामिल हैं। इनमें तीन सरगना है, जो अपनी टीम के सदस्यों के साथ ठगी को अंजाम देता है। इस गिरोह के ठगों की तलाश महाराष्ट्र सहित विभिन्न प्रदेशों की पुलिस को है। पुलिस की गिरफ्त में आया आरोपी शोएब 12 वीं पास है। वह अभी तक सरकारी अधिकारियों से लेकर इंजीनियर और अन्य बड़े पदों पर कार्यरत लोगों को ठगी का शिकार बना चुका है। कुछ दिन बाद ही आरोपी की शादी भी होने वाली है।

क्या है फॉरेक्स ट्रेडिंग

सामान्य शब्दों में फॉरेक्स ट्रेडिंग का अर्थ एक दूसरे के बीच विभिन्न विदेशी मुद्राओं का व्यापार करना है। यानि इस प्रक्रिया के तहत विभिन्न देशों की मुद्राओं में उनके मूल्य के घटते बढ़ते रहने के कारण व्यापार होता है। इसमें एक करेंसी को दूसरी करेंसी से बदला जाता है। ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा जरूरी बात होती है एक्सचेंज रेट। मतलब एक करेंसी को दूसरी करेंसी से एक्सचेंज करने की दर क्या होगी।

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 308