Fig. 3

How to find support and resistance in day trading?

About how to find support and resistance in day trading?

वे लोग जो स्टॉक मार्केट में काम करते हैं, ऐसा चाहते हैं की मार्केट में प्रत्येक दिन पैसा बनाया सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना जाए जिसके लिए Intraday ट्रेडिंग करते हैं यानी मार्केट ओपन होने के बाद अपनी पोजीशन बनाते हैं और मार्केट क्लोज होने से पहले पहले अपनी पोजीशन को क्लोज करके अपना प्रॉफिट और लॉस को बुक कर लेते हैं।

वैसे तो मार्केट में तीन तरह के ट्रेडर होते हैं, पहले तरीके के वैसे लोग जो मार्केट में पैसे लगाकर के लंबे समय तक उसे अपने पास रखते हैं ताकि उनका पैसा अच्छे रिटर्न बना सके और इस तरीके के लोग को इन्वेस्टर बोला जाता है।

दूसरे तरीके के वैसे लोग होते हैं जो मार्केट में कम समय के लिए पैसे लगाते हैं अब वह या तो 5 से 7 दिन का समय हो सकता है या 7 से 15 दिन का समय हो सकता है या महीनों दिन का समय हो सकता है तो ऐसे लोग को स्विंग ट्रेडर के नाम से जाना जाता है जो पैसे लगाने के बाद कम से कम पांच 7 दिन या 7 से 15 दिन अपने पोजीशन को होल्ड करते हैं जिसके पश्चात् ही अपना पोजीशन को कट करते हैं।

तीसरे तरीके में वे सभी लोग शामिल हैं जो मार्केट ओपन होने के बाद अपनी एंट्री बनाते हैं और क्लोज होने से पहले पहले अपने एंट्री को कट करके प्रॉफिट एंड लॉस बुक करके अगले दिन की तैयारी करते हैं ऐसे लोग को इंट्राडे ट्रेडर कहा जाता है।

Open Demat and trading account in Upstox: Sign Up Now

कैंडल के बारे में परिचय

How to find support and resistance in day trading? को समझने से पहले कैंडल को समझना जरूरी है आइए समझते हैं।

बाजार में ट्रेडिंग के दौरान किसी भी स्टॉक या इंडेक्स में खरीदार और विक्रेता टाइम के हर एक छोटे से छोटे पॉइंट पर खरीदारी या बिकवाली करते हैं। इसी दौरान अलग-अलग प्राइस पर खरीदारी होती रहती है हम कैडल को समझने के लिए चार महत्वपूर्ण बिंदु की बात करेंगे जो ओपन, क्लोज, हाई और लो है।

यह चार महत्वपूर्ण बिंदु ओपन वह प्राइस होता है जिस पर मार्केट ओपन होने के बाद पहला सौदा खरीदा जाता है या बेचा जाता है इसके बाद मार्केट में खरीदारी बिकवाली के दौरान एक सबसे कम पर होने वाली खरीदारी या बिकवाली के प्राइस को लो प्राइस बोला जाता है साथ ही लो प्राइस के बाद मार्केट क्लोजिंग होने से पहले तक जहां तक सबसे ऊपर के प्राइस पर खरीदारी होती है उस ऊपरी प्राइस को हाई प्राइस बोला जाता है और अंततः जहां पर मार्केट क्लोजिंग टाइम में क्लोज हो जाता है उस समय जो सबसे लास्ट का खरीदारी या बिकवाली होता है उस प्राइस को क्लोज प्राइस कहा जाता है।

Fig. 1

इस तरीके सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना के बहुत सारे कैंडल्स मिलकर कैंडलस्टिक चार्ट का निर्माण करते हैं।

Fig. 2

लाइन चार्ट का परिचय

लाइन चार्ट को समझना बड़ा ही आसान है लाइन चार्ट को बनाने के लिए मार्केट के क्लोजिंग प्राइस को फ्री हैंड से मिलाया जाता है जिससे एक जिगजाग लाइन दिखती है इसी को लाइन चार्ट के नाम से जाना जाता है। जैसा की Fig. 3 मे दिखाया गया है।

Fig. 3

उपयुक्त चार्ट पेटर्न को समझने के बाद अब हम How to find support and resistance in day trading? को आसानी से समझ सकते हैं।

How to find Support and resistance in day trading?

सपोर्ट रेजिस्टेंस एक ऐसी तकनीक है जिससे day trader अपनी entry और exit को पता करने की कोशिश करते हैं। सपोर्ट वैसी जोन होता है जहा सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना से शेयर का भाव को फिर से उपर जाने के प्रायिकता रहती है। उसी तरह से रेजिस्टेंस वैसी जोन होती है जहा से शेयर का भाव नीचे जाने प्रायिकता होती है।

Best time frame for finding support and resistance in day trading

Day trading में सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस पता करने के लिए हमें अपने टाइम फ्रेम को 5 या 15 मिनट का रखना चाहिए। जिसके बाद चार्ट पर हमें वैसे क्षेत्र का चयन सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना करना चाहिए जहां से मार्केट बार-बार घूम रहा है।

Fig. 4

ऊपर के चित्र में दिखाया गया है कि हाई का वह सारे क्षेत्र जहां से प्राइस नीचे आया है रेजिस्टेंस जोन है और वे सभी क्षेत्र जहां से प्राइस ऊपर गया है उस क्षेत्र को सपोर्ट जॉन कहा जाता है। यहां पर कैंडल 15 मिनट का रखा गया है यानी प्रत्येक कैंडल 15 मिनट टाइम का लिया गया है।

How to draw support line

सबसे पहले हम चार्ट पर वह क्षेत्र ढूंढने का प्रयत्न करेंगे जहां पर कैंडल बार बार आकर के रुक रही है। उस क्षेत्र को आपस में लायंस के द्वारा मिलाने का प्रयत्न करेंगे कभी-कभी यह पूर्णता लाइंस पर आएंगे और कभी-कभी यह लाइंस के आसपास तक आएंगे तब भी हमें प्रयास करना है कि अधिकतम से अधिकतम जॉन जहां से प्राइस ऊपर की ओर घूम रहा है लायंस पर आ जाए अब यह लाइन हमारे लिए सपोर्ट लाइन की तरह काम करेगा।

Fig. 5

How to draw resistance line

सबसे पहले चार्ट पर हम वैसा क्षेत्र ढूंढने का प्रयत्न करेंगे जहां से प्राइस नीचे गिर रहा हो और यह क्रिया बार-बार हो रहा हो अब उन सभी क्षेत्र जहां से प्राइस बार-बार नीचे सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना गिर रहा है जैसा की चित्र 6 में दिखाया गया है। उन सभी क्षेत्रों को हम एक लाइट के द्वारा आपस में मिलाते हैं तो जो लाइन निकल कर के आती है वही लाइन रेसिस्टेंट लाइन कहलाती है और ऐसी प्रायिकता होती है कि वहां से आने वाले टाइम में भी प्राइस आने के बाद गिर जाए तो इस तरीके से हम आसानी से सपोर्ट और रेजिस्टेंस पता कर सकते हैं।

Fig. 6

अब आपको इस सवाल का जवाब मिल गया होगा कि सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना how to find support and resistance in day trading?

अड्डामार्केट सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल को समझना और लाइन बनाना वेबसाइट पर प्रकाशित जानकारी विभिन्न प्रकार के तथ्य सभी विश्लेषण अनुमान बाजार अध्ययन या अन्य सामान्य मूल्यांकन या जानकारी प्रदान करता है कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले कृपया अपने सेबी रजिस्टर्ड एडवाइजर से सलाह मशवरा कर ले यहां पर प्रदान की गई जानकारी के आधार पर ट्रेड या इन्वेस्ट करने पर होने वाले प्रोफिट या लॉस का जिम्मेदार आप खुद होंगे अतः कोई भी ट्रेड पूरी तरह जिम्मेदारी से करें।

रेटिंग: 4.93
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 216