उदाहरण के लिए, इथेरियम नेटवर्क आपको अनुमति देता है अपने खुद के टोकन पैदा करना। टोकन एथेरियम ब्लॉकचेन (जैसे ओमइसेगो) का उपयोग करते हैं। वे केवल टोकन और क्रिप्टोकरेंसी के बीच अंतर टोकन हैं जो भुगतान के लिए उपयोग किए जाते हैं या एथेरेम नेटवर्क के आधार पर निर्मित अनुप्रयोगों (डीएपी) में कुछ फ़ंक्शन होते हैं।

टोकन

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले जान लें क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में क्या है अंतर

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले जान लें क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में क्या है अंतर

भारत समेत दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) का जबरदस्त क्रेज चल रहा है. हालांकि, देश में क्रिप्टोकरेंसी के भविष्य को लेकर अभी तक कोई साफ तस्वीर दिखाई नहीं दे रही है. सरकार, क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अभी कुछ भी कहना पसंद नहीं कर रही है लेकिन क्रिप्टोकरेंसी से होने वाली कमाई पर टैक्स (Tax) वसूलने और क्रिप्टो के विज्ञापन (Crypto Advertisements) को लेकर सख्त नियम-कानून बनाने की पूरी तैयारी में है. खैर, ये तो बाद की बात रही लेकिन सच्चाई यही है कि क्रिप्टोकरेंसी में लोग जमकर पैसा लगा रहे हैं. लेकिन क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने की आपाधापी में ये जानना बहुत जरूरी है कि क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में बड़ा अंतर है. आइए जानते हैं कि आखिर क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में क्या अंतर है?

क्या है क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में अंतर

देखा जाए तो क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन फंडामेंटली एक ही है लेकिन असल में ये काफी अलग है. आपको ये जानना जरूरी है कि सभी क्रिप्टो कॉइन, टोकन की कैटेगरी में तो आते हैं लेकिन सभी क्रिप्टो टोकन, क्रिप्टो कॉइन की कैटेगरी में नहीं आते हैं. क्रिप्टो के मामले में सबसे ज्यादा हैरानी की बात ये है कि क्रिप्टो में निवेश करने वाले ज्यादातर लोग यही बात नहीं जानते कि वे क्रिप्टो कॉइन में पैसा लगा रहे हैं या क्रिप्टो टोकन में पैसा लगा रहे हैं. दरअसल, क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन दोनों ही डिजिटल संपत्ति है और दोनों के अपने निवेशक हैं. आपको ये जानना बहुत जरूरी है कि क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन को अलग-अलग खास मकसद से बनाया गया है और दोनों का इस्तेमाल भी अलग-अलग है.

क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में एक बड़ा अंतर ये भी है कि कुछ प्लेटफॉर्म्स पर सिर्फ क्रिप्टो कॉइन एक्सेप्ट किए जाते हैं तो कुछ प्लेटफॉर्म्स पर सिर्फ क्रिप्टो टोकन एक्सेप्ट किए जाते हैं. अगर आप क्रिप्टो में दिलचस्पी रखते हैं तो आपको ये जानना भी बहुत जरूरी है कि क्रिप्टो कॉइन ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम करता है लेकिन क्रिप्टो टोकन का कोई ब्लॉकचेन नहीं है. क्रिप्टो टोकन को भी क्रिप्टो कॉइन के ही ब्लॉकचेन पर बनाया जाता है. आपको जानकर हैरानी होगी कि क्रिप्टो कॉइन के ब्लॉकचेन पर हजारों क्रिप्टो टोकन्स को होस्ट किया जा सकता है.

बैंक ट्रांजैक्शन की तरह होता है क्रिप्टो कॉइन एक्सचेंज

आपको क्रिप्टो कॉइन और क्रिप्टो टोकन में एक बड़ा अंतर और बताते हैं. क्रिप्टो प्लेटफॉर्म पर जब कभी भी किसी क्रिप्टो टोकन को एक्सचेंज किया जाता है तो वह सीधे-सीधे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के पास चला जाता है. इसे ऐसे समझें कि आपके पास एक साधारण टोकन है, उसे जब एक्सचेंज किया जाएगा तो आपका वह टोकन उस व्यक्ति के पास चला जाएगा जिससे उसे एक्सचेंज किया गया है. वहीं दूसरी ओर, क्रिप्टो कॉइन के मामले में ऐसा नहीं होता. क्रिप्टो कॉइन एक्सचेंज ठीक बैंक ट्रांजैक्शन की तरह होता है. यानी क्रिप्टो एक्सचेंज में होने वाले ट्रांजैक्शन में सिर्फ अकाउंट बैलेंस में बदलाव होता है जैसे बैंक अकाउंट के बैलेंस में बदलाव होता है. मान लीजिए आपने अपने बैंक अकाउंट से किसी दूसरे व्यक्ति के बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करते हैं तो आपके सिर्फ अकाउंट बैलेंस में बदलाव होता है.

क्या है Crypto Coin और Crypto Token में फर्क ?

क्या है Crypto Coin और Crypto Token में फर्क ?

डीएनए हिंदी: Crypto Currency इस वक्त Investors के बीच एक हॉट टॉपिक है. हर तरफ इसी की चर्चा है तो ऐसे में हम इसके बारे में आपके लिए थोड़ी और जानकारी लेकर आए हैं. दरअसल हमने देखा कि अक्सर इन्वेस्टर Crypto Coin को Token और Crypto Token को Coin कहने की गलती कर बैठते हैं. यह प्रैक्टिस गलत है क्योंकि दोनों बिल्कुल अलग चीजे हैं.

सभी क्रिप्टो कॉइन्स को आप टोकन कह सकते हैं लेकिन सभी टोकन, कॉइन की कैटेगरी में नहीं आते. मजेदार बात यह है कि कई यूजर्स को खुद पता नहीं होता कि वे क्रिप्टो कॉइन खरीद रहे हैं या टोकन. ये दोनों ही डिजिटल एसेट हैं और दोनों का अपना यूजर बेस है. इन दोनों के बीच का फर्क उनकी यूटिलिटी का है. कुछ ऐसे काम हैं जिनके लिए टोकन का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं कुछ ऐसे प्लैटफॉर्म हैं जो कॉइन एक्सेप्ट करते हैं लेकिन टोकन नहीं.

टोकन - यह क्या है?

टोकन, tokenization, सिक्का, altcoins, सिक्के . चिप्स? यह सब किसके पास आया होगा?

Czy Bitcoin एक टोकन है? नहीं! क्या लिकेन टोकन है? नहीं, ये सिक्के हैं, या सिक्के हैं। तो, ये टोकन क्या हैं? क्या वे केवल साथ जुड़े हुए हैं ICO? या शायद वे कैसीनो चिप्स के साथ कुछ करना है? चलो देखते हैं .

टोकन क्या है?

अर्थशास्त्र में, "टोकन" हम सिक्कों और बैंकनोटों के अलावा, संख्यात्मक वस्तुओं को कहते हैं। वे सभी प्रकार के हैं चिप्सकैसीनो में पाया जाता है, साथ ही वाउचर, गिफ्ट कार्ड और वाउचर।

बोर्ड गेम में टोकन भी पाए जा सकते हैं, जहां वे मुद्रा या बिंदुओं की भूमिका निभाते हैं। टोकन शादी की परंपरा का एक तत्व है। शादी के टोकन, ख़बरदार रेनॉल्ड्स और विट्टे, एक्सएनयूएमएक्स) और रेलवे सिग्नलिंग। हालाँकि, हम कंप्यूटर के साथ उनके संबंधों में सबसे अधिक रुचि रखते हैं।

पहुंच टोकन एक्सेस टोकन) एक कुंजी है - अभिगम अधिकारों का क्रिप्टोग्राफ़िक प्रमाण - एक प्रकार का प्राधिकरण पासवर्ड। हम उससे कंप्यूटर नेटवर्क में मिल सकते हैं। डेटा सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यहां टोकनेशन का उपयोग किया गया है, जिसमें ब्लॉकचेन टोकन के उपयोग के साथ बहुत कुछ है।

टोकन और क्रिप्टोकरेंसी

हां, बिटकॉइन या लिटीकॉइन एक आभासी सिक्का है, डिजिटल पैसा, हां टोकन एक वर्चुअल टोकन है। इसका प्रकाशन प्रक्रिया से संबंधित है tokenizacji.

टोकन यह पैसे की भूमिका निभा सकता है। आप उन्हें कर सकते हैं के लिए भुगतान करें, आमतौर पर सख्ती से निर्दिष्ट, सेवाओं के प्रकार। सबसे आम टोकन हैं एक परियोजना से संबंधित, कंपनी या व्यक्ति। उदाहरण के लिए, आप किसी कंपनी के टोकन के लिए उसकी सेवाओं, उसके अनुप्रयोगों और प्लेटफॉर्म के माध्यम से भुगतान कर सकते हैं। वे पारंपरिक नकदी की जगह लेते हैं। वे ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करते हुए बुद्धिमान अनुबंधों के आधार पर त्वरित, विकेंद्रीकृत, निपटान की अनुमति देते हैं।

टोकन का उपयोग स्वामित्व की एक क्रिप्टोग्राफिक पुष्टि के रूप में भी किया जा सकता है, कुछ कंपनियों के शेयर। ऐसे टोकन को कहा जाता है सुरक्षा टोकन और वे एक प्रकार की प्रतिभूतियाँ हैं।

FAQ:

Crypto coin वो होते है जिनकी खुदकी ब्लॉकचैन होती है जैसे की (Bitcoin, Bitcoin Cash, Ripple, Litcoin, Cardano) ये सभी वो Coins है.

टोकन वो होते है जो किसी की थर्ड पार्टी टेक्नोलॉजी को यूज करके अपने coins को develop करते है.

Bitcoin, Ripple, Ethereum, Binance Coin ये सभी क्रिप्टो कॉइन होते है.

ENJIN, REN, Shiba Inu, Floki Inu, Polkadot.

दोस्तो ये है एक crypto coin और एक token के बीच का अंतर. मुझे आशा है कि आपको समझ आ गया होगा. यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे शेयर जरूर करे और आपके मन में इस लेख से संबंधित जो भी सवाल हो वो नीचे दिए कॉमेंट में पूछ सकते है.

Crypto News: प्राइवेट और पब्लिक क्रिप्टो करेंसी में क्या अंतर है?

क्रिप्टो ट्रेड

पब्लिक क्रिप्टोकरेंसी
ऐसी सभी क्रिप्टो करेंसी जिनके ट्रांजैक्शन एक-दूसरे से लिंक हो उन्हें पब्लिक क्रिप्टो करेंसी कहते हैं। पब्लिक क्रिप्टो करेंसी में यह पता किया जा सकता है कि यह करेंसी किस किस व्यक्ति के पास से गुजरी है। बिटकॉइन, इथर या टेलर से लेकर तमाम बड़ी क्रिप्टो करेंसी पब्लिक क्रिप्टो करेंसी हैं।

प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी
कई क्रिप्टोकरेंसी ऐसी हैं जिनके लेनदेन टोकन और क्रिप्टोकरेंसी के बीच अंतर की जानकारी सार्वजनिक नहीं की जाती है, इन्हें प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी कहते हैं। Monero, Dash और दूसरे Crypto token भी प्राइवेट क्रिप्‍टोकरेंसी में आते हैं। इन प्राइवेट क्रिप्‍टोकरेंसी में यूजर की प्राइवेसी बनी रहती है, उनका डेटा सुरक्षित रहता है। इसे प्राइवेट टोकन भी कहते हैं।

प्राइवेट कॉइन की खासियत

प्राइवेट क्रिप्टो करेंसी यूजर के वॉलेट का बैलेंस और उसका पता जाहिर नहीं होने देते। इसी विशेषता के चलते इनका टोकन और क्रिप्टोकरेंसी के बीच अंतर इस्तेमाल अवैध गतिविधियों में हो सकता है। भारत में सरकार क्रिप्टो करेंसी पर जो कानून ला रही है उसके तहत प्राइवेट किसको करेंसी को बैन किया जा सकता है।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 742